अब 24 घंटे में डिलीट हो जाएंगे OTP वाले मैसेज, Google लाया ये खास फीचर

अब 24 घंटे में डिलीट हो...- India TV Paisa
Photo:AP

अब 24 घंटे में डिलीट हो जाएंगे OTP वाले मैसेज, Google लाया ये खास फीचर

दुनिया के सबसे बड़े मोबाइल आपरेटिंग सिस्टम गूगल एंड्रॉयड पर दो नए खास फीचर आ गए हैं। भारत में Google की मैसेज एप में नए अपडेट घोषित हुए हैं। इसके तहत गूगल मैसेज में अलग अलग कैटेगरी के मैसेज अलग दिखाई देंगे। इसके अलावा बैंकों से आने वाले वन-टाइम पासवर्ड (OTP) अपने आप 24 घंटे के भीतर डिलीट हो जाएंगे। जल्द ही ये अपडेट भारत में यूजर्स के फोन में अपडेट कर दिए जाएंगे। 

Google ने एक ब्लॉग पोस्ट में भारत में गूगल मैसेज यूज़र्स के लिए इन दो नए फीचर्स के रोलआउट की घोषणा की। प्राप्त जानकारी के अनुसार यूजर्स आसानी से मैसेज खोज सकें, इसके लिए जीमेल की तरह अलग अलग कैटेगरी में मैसेज दिखाई देंगे। मैसेज की छंटाई के लिए गूगल मशीन लर्निंग तकनीक का उपयोग करेगा। मशीन लर्निंग आपके मैसेज को पर्सनल, ट्रांजेक्शन, ओटीपी सहित अन्य कैटेगरी में ऑटोमेटिक रूप से छांट देगा। जिससे यूज़र को मैसेज को खोजने में आसानी होगी। 

पढ़ें-  भारत के सभी बैंकों के लिए आ गई ये सिंगल एप, ICICI बैंक ने किया कमाल

पढ़ें- ATM मशीन को बिना छुए निकाल सकते हैं पैसा, इस सरकारी बैंक ने शुरू की सुविधा

24 घंटे में डिलीट होंगे ओटीपी

देश में इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं इस समय ओटीपी पर आधारित हैं। आपके मोबाइल पर आने वाला ओटीपी आपके बैंक अकाउंट तक पहुंच का एकमात्र जरिया होता है। ऐसे में गूगल ने सुरक्षा को बढ़ाते हुए आटो डिलीट का फीचर पेश किया है। यूज़र चाहे तो 24 घंटे के बाद उसके ओटीपी अपने आप डिलीट भी हो जाएंगे।

एंड्रॉयड 8 के एडवांस वर्जन में मिलेगा फीचर 

गूगल के ये दोनों नए अपडेट जल्द ही भारत में एंड्रॉयड यूजर्स को मिलेगे। गूगल के ब्लॉग के अनुसार Android 8 और इसके बाद के वर्ज़न चलाने वाले स्मार्टफोन पर शुरू होगा। गूगल ने बताया कि ओटीपी ऑटो डिलीटिंग फीचर और कैटेगरी फीचर दोनों वैकल्पिक हैं। यूजर सेटिंग्स में जाकर इसे चालू या बंद कर सकता है। साथ ही यूजर को गूगल मैसेज के लेटेस्ट वर्ज़न को अपडेट करना होगा। 

क्या होगा फायदा 

गूगल मैसेज ऐप पर SMS मैसेज को उनके उपयोग के आधार पर विभिन्न वर्गों में छांट दिया जाएगा। उदाहरण के लिए, बैंक ट्रांजेक्शन और बिल के ट्रांजेक्शन वाले मैसेज के लिए एक अलग टैब बन जाएगा, जबकि सेव किए गए नंबरों पर हुई बातचीत वाले मैसेज को पर्सनल टैब में रखा जाएगा। Google का कहना है कि यूज़र्स के डिवाइस पर वर्गीकरण सुरक्षित रूप से होता है, इसलिए बातचीत ऐप में रहती है और इसे ऑफलाइन भी एक्सेस किया जा सकता है।