कंपनियों के तिमाही नतीजों, कोविड-19 के रुख से तय होगी शेयर बाजार की दिशा

stock market next week- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

stock market next week

नई दिल्ली। शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह कंपनियों के तिमाही नतीजों, कोरोना वायरस के मामलों के रुख तथा भू-राजनीतिक घटनाक्रमों से तय होगी। बाजार के जानकारों का कहना है कि इसके अलावा बाजार भागीदारों की नजर मानसून की प्रगति पर भी रहेगी। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस की मार से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने में कृषि क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी।

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा, ‘‘कोई प्रमुख घटनाक्रम नहीं होने की वजह से इस सप्ताह बाजार की दिशा मौजूदा तिमाही नतीजों के सीजन और वैश्विक संकेतकों से तय होगी। इसके अलावा मानसून की प्रगति पर भी सभी की निगाह होगी। ’’ वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों तथा भू- राजनीतिक तनाव की वजह से आर्थिक रिकवरी को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है।

भारत में कोविड-19 के संक्रमण के आंकड़े 11 लाख के पास पहुंचने वाले हैं। अब संक्रमण के मामलों में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। देश में इस महामारी से अब करीब 27,000 लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में बाजार भागीदारों द्वारा सतर्कता बरते जाने की उम्मीद है। वैश्विक स्तर पर कोविड-19 संक्रमण के मामले 1.4 करोड़ को पार कर गए है। दुनियाभर में अबतक इस महामारी से छह लाख लोगों की जान जा चुकी है। विश्लेषकों ने कहा कि बाजार की निगाह अमेरिका और चीन के व्यापार और राजनीतिक घटनाक्रमों पर भी रहेगी।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘‘तिमाही नतीजों का सीजन होने की वजह से शेयर विशेष गतिविधियां देखने को मिलेंगी। हालांकि, निकट भविष्य का परिदृश्य सकारात्मक है, लेकिन हम निवेशकों को अमेरिका-चीन व्यापार संबंध, वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी और देश के कुछ हिस्सों में फिर लॉकडाउन लगाए जाने की वजह से सतर्कता बरतने की सलाह देंगे।’’

सोमवार को एचडीएफसी बैंक के शेयर पर सभी की निगाह रहेगी। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 19.6 प्रतिशत बढ़कर 6,658.62 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। बैंक की आय भी बढ़कर 34,453.28 करोड़ रुपये हो गई है। इस सप्ताह एक्सिस बैंक, बजाज फाइनेंस, हिंदुस्तान यूनिलीवर लि., बजाज ऑटो और आईटीसी जैसी बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजे आने हैं।