खुशखबरी: इस तारीख को किसानों के खाते में आने वाली है नकद रकम, ऐसे तुरंत चेक करें लिस्ट

2000  रुपये की किस्त...- India TV Paisa
Photo:PTI

2000  रुपये की किस्त जल्द

नई दिल्ली। पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Scheme) के लिए रजिस्ट्रेशन कराने वाले किसानों के लिए बड़ी खबर। सरकार जल्द ही ऐसे किसानों के बैंक खातों में 2000-2000 रुपये जमा कराने वाली है। पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत  सरकार हर साल 2000 -2000 रुपये की 3 किस्तों में किसानों को कुल 6,000 रुपये की नकद आर्थिक सहायता देती है। फिलहाल योजना के तहत किसानों को आठवीं किस्त मिलने वाली है। फिलहाल इस स्कीम की मदद से देश भर के 9.5 करोड़ किसानों को उनके खाते में नकद रूप से आर्थिक सहायता पहुंचाई जा रही है। 

कब तक मिलेगी किस्त

अनुमान के मुताबिक 2000 रुपये की मौजूदा किस्त 20 अप्रैल तक आ जाती है लेकिन अब तक वो खातों में नहीं पहुंची है। मीडिया में आई रिपोट्स की माने तो 10 मई तक किस्त खातों में पहुंच जायेगी। केंद्र सरकार ने अभी तक तारीखों का ऐलान नहीं किया है लेकिन रिपोर्ट्स के मुताबिक मई के दूसरे हफ्ते में रकम खातों में आ सकती है।

लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम-


1. सबसे पहले आपको पीएम किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in पर विजिट करना होगा।

2. इसके होमपेज पर आपको Farmers Corner का ऑप्शन दिखाई देगा.

3. Farmers Corner सेक्शन के भीतर आपको Beneficiaries List के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा.


. फिर आपको ड्रॉप डाउन लिस्ट से राज्य, जिला, उप जिला, ब्लॉक और गांव को सेलेक्ट करना होगा.

5. इसके बाद अपको Get Report पर क्लिक करना होगा. इसके बाद लाभार्थियों की पूरी लिस्ट सामने आ जाएगी, जिसमें आप अपना नाम चेक कर सकते हैं.

जानें क्यों हो रही पैसे आने में देरी

आपको बता दें सूत्रों का कहना है कि कोरोना संकट की वजह से लाभार्थियों के वैरिफिकेशन की प्रक्रिया में देरी हो रही है. इसके अलावा जिन अपात्र किसानों को पहले इसका लाभ मिला है उनसे पैसा वसूलने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है. प्रक्रिया पूरी होने के बाद करीब 9.5 करोड़ किसानों को पहली किस्त के रूप में कुल 19,000 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी जाएगी.

यह भी पढ़ें: एक्सिस बैंक ने दिया मोटी कमाई का मौका, जल्दी करें स्कीम के सिर्फ कुछ दिन हैं बाकी

यह भी पढ़ें: पाबंदियों से अप्रैल में 75 लाख नौकरियां गयीं, बेरोजगारी दर 4 माह के उच्च स्तर पर: CMIE