दाम घटने के बाद किस रेट पर मिलेगी Remdesivir, ये रही अलग-अलग कंपनियों की रेट लिस्ट

दाम घटने के बाद किस रेट पर मिलेगी Remdesivir, ये रही अगल-अगल कंपनियों की रेट लिस्ट- India TV Paisa
Photo:FILE

दाम घटने के बाद किस रेट पर मिलेगी Remdesivir, ये रही अगल-अगल कंपनियों की रेट लिस्ट

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के उपचार के लिए इस समय जिस दवा रेम्डेसिविर की सबसे ज्यादा मांग है सरकार ने उसकी कीमतें शुक्रवार को घटाने की घोषणा की है। आज सरकार ने यह भी बता दिया है कि किस कंपनी की रेम्डेसिविर किस दाम पर मिलेगी। रेम्डेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली सात प्रमुख कंपनियों की इस वक्त 38.8 लाख वायल्स प्रतिमाह बनाने की है। सरकार के हस्तक्षेप के बाद रेमडेसिवीर के प्रमुख विनिर्माताओं ने स्वेच्छा से दवा के दाम प्रति शीशी 5,400 रुपये से घटाकर 3,500 रुपये से भी कम कर दिए हैं। साथ ही सरकार देश में रेमडेसिवीर का उत्पादन बढ़ाने के लिये सभी कदम उठा रही है। 

देश में कोरोना की दूसरी लहर के बीच रसायन एवं उर्वरक मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने शुक्रवार को कोरोना उपचार में इस्तेमाल होने वाली रेमडेसिवीर (Remdesivir) दवा को लेकर बड़ी खुशखबरी दी है। सरकार कोविड-19 के इलाज में काम आने वाले रेम्डेसिविर (Remdesivir) इंजेक्शन का उत्पादन बढ़ाने के लिये सभी कदम उठा रही है ताकि देश में इसकी उपलब्धता को बढ़ाया जा सके। डी वी सदानंद गौडा ने शुक्रवार को कहा कि पिछले पांच दिन के भीतर विभिन्न राज्यों को कुल मिलाकर 6.69 लाख रेम्डेसिविर इंजेक्शन की शीशियां उपलब्ध कराई गई हैं। गौडा ने ट्वीट कर कहा, ‘‘सरकार रेम्डेसिविर की उत्पादन सुविधाओं का विस्तार करने और उनकी क्षमता और उपलब्धता बढ़ाने के हर जरूरी कदम उठा रही है।’’ 

ये रही अगल-अगल कंपनियों की रेट लिस्ट

दाम घटने के बाद किस रेट पर मिलेगी Remdesivir, ये रही अगल-अगल कंपनियों की रेट लिस्ट

Image Source : INDIATV

दाम घटने के बाद किस रेट पर मिलेगी Remdesivir, ये रही अगल-अगल कंपनियों की रेट लिस्ट

एक अन्य ट्वीट में गौड़ा ने कहा, ‘‘सरकार के हस्तक्षेप के बाद रेम्डेसिविर के प्रमुख विनिर्माताओं ने स्वेच्छा से 15 अप्रैल 2021 से इसके दाम को 5,400 रुपये से घटाकर 3,500 रुपये से भी कम कर दिया है। इससे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कोविड- 19 के खिलाफ लड़ाई को समर्थन मिलेगा।’’ इस बीच महाराष्ट्र के एक राज्य मंत्री ने शुक्रवार को आशंका जताई कि राज्य को 12,000 से 15,000 रेम्डेसिविर इंजेक्शन की कमी का सामना करना पड़ सकता है।