देश का विदेशी मुद्रा भंडार नये रिकॉर्ड स्तर पर, 605 अरब डॉलर के हुआ पार

रिकॉर्ड स्तर पर...- India TV Paisa
Photo:PTI

रिकॉर्ड स्तर पर विदेशी मुद्रा भंडार

नई दिल्ली। भारत की अर्थव्यवस्था ने आज एक नयी उपलब्धि हासिल की है। देश का विदेशी मुद्रा भंडार पहली बार 600 अरब डॉलर के स्तर के पार पहुंच गया है। आज जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक  विदेशी मुद्रा भंडार चार जून, 2021 को समाप्त सप्ताह में 6.842 अरब डॉलर बढ़कर पहली बार 600 अरब डॉलर को पार कर गया। रिजर्व बैंक गवर्नर ने पहले ही इसके संकेत दे दिये थे, अब इसके आधिकारिक आंकड़े भी सामने आ गये हैं।

कहां पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार

 भारतीय रिजर्व बैंक के शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 605.008 अरब डॉलर की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। इस वृद्धि का कारण विदेशी मुद्रा आस्तियों में हुई अच्छी वृद्धि है। यह कुल मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा होता है। इससे पहले 28 मई, 2021 को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 5.271 अरब डॉलर बढ़कर 598.165 अरब डॉलर हो गया था। रिजर्व बैंक के साप्ताहिक आंकड़ों के अनुसार, विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां इस अवधि के दौरान 7.362 अरब डॉलर बढ़कर 560.890 अरब डालर हो गईं। विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां डॉलर में व्यक्त की जाती हैं। इसमें डॉलर के अलावा यूरो, पाउंड और येन में अंकित सम्पत्तियां भी शामिल हैं।

कहां पहुंचा देश का स्वर्ण भंडार

सप्ताह के दौरान स्वर्ण भंडार 50.2 करोड़ डॉलर घटकर 37.604 अरब डालर रह गया। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 10 लाख डॉलर घटकर 1.513 अरब डॉलर रह गया। वहीं, आईएमएफ के पास देश का आरक्षित भंडार भी 1.6 करोड़ डॉलर घटकर पांच अरब डॉलर रह गया। फिलहाल भारत का विदेशी मुद्रा भंडार डेढ़ साल से ज्यादा वक्त के आयात के लिए पर्याप्त है। साल 2004 में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार ने 100 अरब डॉलर की सीमा पार की थी, वहीं जून 2020 के पहले हफ्ते में विदेशी मुद्रा भंडार 500 अरब डॉलर के स्तर को पार कर गया। जून के बाद से विदेशी मुद्रा भंडार लगातार 500 अरब डॉलर के स्तर से ऊपर ही बना हुआ है।