पेट्रोल-डीजल महंगा होने से भारत में बढ़ी महंगाई, आईएमएफ ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी को जरूरी बताया

inflation - India TV Paisa
Photo:FILE

inflation 

Highlights

  • दुनिया भर में नीति निर्माता महंगाई को काबू में करने के उपाए कर रहे हैं
  • भारत में महंगाई पर काबू पाने के लिए ब्याज दरों में बढ़ोतरी जरूरी है
  • भारत खासतौर से तेल और अन्य वस्तुओं के आयात पर निर्भर है

वाशिंगटन। आईएमएफ की एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यूक्रेन-रूस युद्ध के कारण तेल की कीमतों में हुई तेजी के चलते भारत में महंगाई बढ़ी है। उन्होंने कहा कि इस स्थिति को ठीक करने के लिए आरबीआई द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी (मौद्रिक सख्ती) जरूरी है। इसके अलावा उन्होंने संरचनात्मक कमजोरियों को दूर करके वृद्धि क्षमता में सुधार पर भी जोर दिया। आईएमएफ के एशिया और प्रशांत विभाग की कार्यवाहक निदेशक ऐनी-मैरी गुल्डे-वुल्फ ने कहा कि अनुमानों के अनुसार 2022-23 में देश की अर्थव्यवस्था 8.2 प्रतिशत की दर से बढ़ सकती है, जो 0.8 प्रतिशत अंक कम है। 

वृद्धि अभी भी मजबूत बनी हुई 

उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वृद्धि अभी भी मजबूत है, लेकिन इसमें पर्याप्त गिरावट है। दुनिया भर में नीति निर्माता महंगाई को काबू में करने के उपाए कर रहे हैं। उन्होंने कहा, महंगाई बढ़ने की मुख्य वजह यूक्रेन में जारी युद्ध है। भारत खासतौर से तेल और अन्य वस्तुओं के आयात पर निर्भर है। 

बुनियादी ढांचे के निवेश सही कदम 

आईएमएफ अधिकारी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अल्पावधि में कमजोर परिवारों की मदद करने और बुनियादी ढांचे के निवेश पर ध्यान देने की नीति उपयुक्त है। उन्होंने मौद्रिक सख्ती और संरचनात्मक कमजोरियों को दूर करने की सिफारिश की।