भारत में 2050 तक हुआ ये बदलाव, तो देश में कोई भूखा नहीं सोएगा : गौतम अदाणी

Indian Economy- India TV Paisa
Photo:FILE

Indian Economy

मुंबई। उद्योगपति गौतम अडाणी ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत वर्ष 2050 तक 30,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनता है, तो देश में कोई भी भूखे पेट नहीं सोएगा। अडाणी ने टाइम्स नेटवर्क इंडिया इकनॉमिक कॉन्क्लेव में कहा, ‘‘हम वर्ष 2050 से लगभग 10,000 दिन दूर हैं। इस अवधि के दौरान, मुझे आशा है कि हम अपनी अर्थव्यवस्था में लगभग 25 हजार अरब डॉलर जोड़ेंगे।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘यह एक दिन में 2.5 अरब डॉलर बनता है। इसी के साथ मैं यह भी उम्मीद लगाता हूं कि हम गरीबी के सभी प्रकार को पीछे छोड़ देंगे।’’ उन्होंने कहा कि अगर अर्थव्यवस्था योजना के अनुसार बढ़ती है, तो इन 10,000 दिनों के दौरान शेयर बाजार का बाजार पूंजीकरण लगभग 40 हजार अरब डॉलर बढ़ जायेगा। जो वर्ष 2050 तक हर दिन चार अरब डॉलर बनता है। अडानी समूह के प्रमुख ने कहा कि 1.4 अरब लोगों के जीवन को इस अवधि में बेहतर करना मैराथन जैसा लग सकता है, लेकिन यह लंबे समय की एक ‘स्प्रिंट’ (तेज दौड़) जैसा है।

अडाणी पोर्ट्स करेगी ओशन स्पार्कल का अधिग्रहण 

डाणी पोर्ट्स ऐंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन्स (एपीएसईजेड) लिमिटेड की अनुषंगी अडाणी हार्बर सर्विसेस ने तृतीय पक्ष समुद्री सेवा प्रदाता कंपनी ओशन स्पार्कल लिमिटेड (ओएसएल) के अधिग्रहण के लिए करार किया है। एपीएसईजेड के मुख्य कार्यपालक अधिकारी और पूर्णकालिक निदेशक करण अडाणी ने कहा कि ओएसएल और अडाणी हार्बर सर्विसेज लिमिटेड (टीएएचएसएल) के तालमेल को देखते हुए, समेकित व्यवसाय बेहतर मुनाफे के साथ पांच वर्षों में दोगुना होने की संभावना है, जिसका लाभ अडाणी पोर्ट्स के शेयरधारकों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस अधिग्रहण से कंपनी की भारत के समुद्री सेवा बाजार में हिस्सेदारी बढ़ेगी और अन्य देशों में मौजूदगी दर्ज करवाने के लिए एक मंच भी मिलेगा।