शुरुआती कारोबार में सेंसेक्‍स 300 अंक नीचे, बैंक व वित्त कंपनियों के शेयरों में आई गिरावट

Sensex drops over 300 pts in early trade; financial stocks drag- India TV Paisa
Photo:PTI

Sensex drops over 300 pts in early trade; financial stocks drag

मुंबई। वैश्वकि बाजारों में बिकवाली निकलने से बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स भी मंगलवार को कारोबार के शुरुआती दौर में 300 अंक से अधिक गिर गया। इस दौरान वित्तीय कंपनियों के शेयरों में गिरावट रही। कारोबार के शुरुआती दौर में 36,339.07 अंक का निम्नस्तर छूने के बाद 30 शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स पिछले दिन के बंद के मुकाबले 277.05 अंक यानी 0.76 प्रतिशत गिरकर 36,416.64 अंक पर चल रहा था। इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी सूचकांक भी 74.85 अंक यानी 0.69 प्रतिशत गिरकर 10,727.85 अंक रहा।

एचडीएफसी बैंक और एचडीएफसी लिमिटेड दोनों के शेयरों में तीन प्रतिशत तक गिरावट रही। एचडीएफसी बैंक के लंबे समय तक वाहन कर्ज का कामकाज देखने वाले अधिकारी के तौर तरीकों को लेकर जांच शुरू की गई है। यह अधिकारी 31 मार्च को सेवा निवृत हो चुका है। इसके साथ ही इंडसइंड बैंक, बजाज फिनसर्व, एक्सिस बैंक, बजाज फाइनेंस, मारुति और स्टेट बैंक के शेयरों में भी गिरावट रही।

इसके विपरीत एचसीएल टेक, इन्फोसिस, नेस्ले इंडिया, अल्ट्रा टेक सीमेंट और आईटीसी के शेयरों में बढ़त दर्ज की गई। इससे पिछले सत्र सोमवार को बीएसई सेंसेक्स 99.36 अंक यानी 0.27 प्रतिशत बढ़कर 36,693.69 अंक और निफ्टी 34.65 अंक बढ़कर 10,802.70 अंक पर बंद हुआ था।

इस दौरान शेयर बाजार द्वारा उपलब्ध कराये गए अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बाजार में 221.76 करोड़ रुपए की शुद्ध लिवाली की। शंघाई, हांगकांग, टोक्यो और सियोल के बाजारों में भी मंगलवार को शुरुआत गिरावट के साथ हुई। अमेरिका ने एक अहम नीतिगत फैसले में सोमवार को दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में चीन के दावे को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि इस क्षेत्र पर चीन का एकतरफा दावा करने का कोई कानूनी आधार नहीं है।

कोरोना वायरस के मोर्चे पर संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ते जाने से चिंता बढ़ रही है। दुनियाभर में 1.30 करोड़ लोग इससे संक्रमित हैं जबकि भारत में यह आंकड़ा 9.06 लाख तक पहुंच चुका है। इस बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट कच्चे तेल का वायदा भाव 2.06 प्रतिशत गिरकर 41.84 डॉलर प्रति बैरल रह गया।