सोने के दाम बढ़ने वाले है, 47000 के पार जा सकते हैं रेट

सोने के दाम बढ़ने वाले है, 47000 के पार जा सकते हैं रेट- India TV Paisa
Photo:FILE

सोने के दाम बढ़ने वाले है, 47000 के पार जा सकते हैं रेट

मुंबई: सोना खरीदने की सोच रहे है तो जल्द खरीद लें। हम ऐसा इसलिए कह रहे है क्योकि सोने के दाम 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के ऊपर तक जा सकते है। देश में कोरोना विस्फोट के खतरे की वापसी और डॉलर में आई मजबूती की वजह से बीते सप्ताह के आखिरी सत्र में मुनाफावसूली का दबाव बढ़ने से सोने और चांदी के भाव में थोड़ी गिरावट, फिर भी साप्ताहिक स्तर पर जबरदस्त बढ़त दर्ज की गई। इस कारोबारी सप्ताह भी बुलियन में तेजी का रुझान बना रह सकता है। जानकारों की मानें तो सोने का भाव घरेलू वायदा बाजार में 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के ऊपर तक जा सकता है, जबकि चांदी में 68,000 रुपये प्रति किलो के उपर तक कारोबार देखने को मिल सकता है।

वैश्विक बाजार में सोने का भाव बीते सप्ताह करीब एक फीसदी चढ़ा जबकि घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोटिडी एक्सचेंज पर सोने का भाव चार फीसदी उछला। वहीं, चांदी में भी साप्ताहिक स्तर पर करीब तीन फीसदी की बढ़त देखने को मिली। केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया बताते हैं कि डॉलर मजबूत रहने से सप्ताह के आरंभ में मुनाफावसूली का दबाव थोड़ा और बढ़ सकता है, लेकिन अमेरिकी अर्थव्यवस्था में मजबूती के संकेत मिलने और कोरोना के गहराते कहर से महंगी धातुओं के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ने से इस सप्ताह कारोबारी रुझान तेज रहने की संभावना है।

उन्होंने कहा कि एमसीएक्स पर सोने के जून अनुबंध में रेजिस्टेंस-47,200 पर जबकि सपोर्ट-45,900 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहेगा। वहीं, चांदी में रेसिस्टेंस 68,500 रुपये प्रतिकिलो जबकि सपोर्ट-65,100 रुपये प्रति किलो पर रहेगा। एमएसीएक्स पर सोने का जून अनबंध बीते सत्र में 228 रुपये की कमजोरी के साथ 46,610 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ जबकि चांदी का मई अनुबंध 540 रुपये की गिरावट के साथ 66,961 रुपये प्रति किलो पर बंद हुआ।

वहीं, अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने का जून अनुबंध बीते सप्ताह के आखिरी सत्र में 13.60 डॉलर यानी 0.77 फीसदी की कमजोरी के साथ 1,744.60 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। वहीं, चांदी का मई अनुबंध एक फीसदी की कमजोरी के साथ 25.31 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। हालांकि सर्राफा बाजार के जानकार बताते हैं कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई समेत देशभर के महानगरों और अन्य शहरों में कोरोना के कहर की रोकथाम के लिए जारी प्रतिबंधों से हाजिर कारोबार पर असर पड़ेगा।