सोने में आया आज तेज उछाल, जानिए कहां पहुंच गई कीमतें

सोने की कीमत में...- India TV Paisa
Photo:PTI

सोने की कीमत में बढ़त

नई दिल्ली। विदेशी बाजारों से मिले संकेतों की वजह से सोमवार को सोने और चांदी की कीमतों में उछाल देखने को मिला है। आज की बढ़त के बाद सोना 47 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर के पार पहुंच गया है। वहीं चांदी की कीमत 68 हजार रुपये प्रति किलो के पार पहुंच गई है। जानकारों के मुताबिक यूएस बॉन्ड यील्ड में गिरावट के बाद सोने में निवेश मांग बढ़ी है जिसका असर हाजिर बाजार में देखने को मिला है। 

आज कहां पहुंची सोने की कीमत

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक नई दिल्ली में सोमवार के कारोबार के दौरान सोना 411 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़त के साथ 47,291 रुपये के स्तर पर पहुंच गया। पिछले कारोबारी सत्र में सोना 46880 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था। 

आज कहां पहुंची चांदी की कीमत


दूसरी तरफ आज चांदी की कीमतों में भी बढ़त देखने को मिली है। सोमवार के कारोबार में चांदी की कीमत 338 रुपये बढ़कर 68335 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गई। पिछले कारोबारी सत्र में चांदी 67997 रुपये प्रति किलो पर बंद हुई थी।

क्यों आई कीमतों में तेजी


एचडीएफसी सिक्योरिटीज के सीनियर एनालिस्ट (कमोडिटी) तपन पटेल के मुताबिक यूएस बॉन्ड यील्ड में गिरावट और कमजोर डॉलर की वजह से सोने की कीमतों पर असर देखने को मिला है। वहीं मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के वीपी (कमोडिटी रिसर्च), नवनीत दमानी ने कहा कि डॉलर में कमजोरी और यूएस ट्रेजरी यील्ड में गिरावट से सोने की कीमत 7 हफ्ते की ऊंचाई पर बनी हुई हैं।  

क्या रहीं सोने की वायदा कीमतें


मजबूत हाजिर मांग के कारण मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में जून के महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 277 रुपये यानी 0.58 प्रतिशत की तेजी के साथ 47,630 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 11,447 लॉट के लिये कारोबार किया गया। बाजार विश्लेषकों के मुताबिक कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली के कारण सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। 

क्या रहीं चांदी वायदा कीमतें


मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा बाजार में सोमवार को चांदी वायदा कीमत 66 रुपये की तेजी के साथ 68,750 रुपये प्रति किग्रा हो गयी। जिसमें 9,003 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि चांदी कीमतों में तेजी आने का मुख्य कारण घरेलू बाजार में तेजी के रुख की वजह से कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों को लिवाली करना था।