120 हर्ट्ज एमोलेड डिस्‍प्‍ले के साथ आने वाला OnePlus 8T कब होगा लॉन्‍च, जानिए यहां

OnePlus 8T reportedly brings 120Hz display debut in October- India TV Paisa
Photo:ANDROIDAUTHORITY

OnePlus 8T reportedly brings 120Hz display debut in October

बीजिंग। चीन की प्रीमियम स्‍मार्टफोन निर्माता वनप्लस अपने बहुप्रतिक्षित वनप्लस 8टी स्मार्टफोन अक्टूबर महीने के पहले सप्ताह में लॉन्च कर सकती है। यह फोन ऑक्सीजनओएस 11 पर आधारित है और इसमें 120हर्ट्ज का रिफ्रेश रेट होगा। एंड्रॉयड सेंट्रल की रिपोर्ट के मुताबिक इस डिवाइस को कबाब कोडनेम दिया गया है और इसमें 6.55 इंच का एमोलेड डिस्प्ले लगा होगा। यह वनप्लस 8 की तरह होगा लेकिन इसमें खास बात यह होगी कि इसका रिफ्रेश रेट 120 हर्ट्ज होगा।

OnePlus 8T  फोन के रियर में चार कैमरों से लैस होने का अनुमान है। इसमें 48एमपी का एक प्राइमरी लेंस होगा और इसके अलावा 16एमपी वाइड एंगल मॉड्यूल, 5एमपी मैक्रो और 2एमपी पोट्रेट लेंस होगा।

प्रोसेसर की बात करें तो इस फोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 865 प्लस चिप होगा, जिसका रैम 8जीबी और इंटरनल स्टोरेज 128 जीबी का होगा। इसके अलावा वनप्लस एक और डिवाइस लॉन्च करने की तैयारी में है, जिसकी कीमत 16 से 18 हजार रुपए के बीच होगी और जो स्नैपड्रैगन 662 या 665 पर संचालित होगा।

एप्पल ने आईफोन सॉफ्टवेयर में नए निगरानी-रोधी टूल को लागू करने की योजना टाली

एप्पल ने अपने आईफोन ऑपरेटिंग सिस्टम के अगले संस्करण में नए प्राइवेसी फीचर को लागू करने की योजना को टाल दिया है। इस फीचर के कारण एप बनाने वालों के लिए डिजिटल विज्ञापन बेचने के इरादे से लोगों की ऑनलाइन निगरानी करना अधिक कठिन हो जाएगा। यह निर्णय गुरुवार को लिया गया, जिससे आईओएस 14 प्रभावित होगा। अनुमान है कि इस महीने के अंत तक एक अरब आईफोन उपयोगकर्ताओं के लिए यह ऑपरेटिंग सिस्टम मुफ्त सॉफ्टवेयर अपग्रेड के रूप में उपलब्ध होगा।

एप्पल का इरादा था कि आईओएस 14 अपने आप निगरानी को बंद कर देगा, लेकिन कंपनी ने अब कहा है कि इस टूल को अगले साल की शुरुआत तक रोककर रखा जाएगा। ये सुरक्षा उपाए आईपैड और एप्पल टीवी के अगले ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए भी किए जाने थे। इस फीचर का इस्तेमाल करने पर एप को उपयोगकर्ता के आंकड़ों को जमा करने और साझा करने से पहले उसकी अनुमति लेनी जरूरी होगी। यह आशंका जताई गई थी कि ज्यादातर लोग निगरानी को बंद कर देंगे, जिससे मुफ्त एप्‍स के लिए अपने विज्ञापनों को बेचना मुश्किल हो जाएगा, जिनसे उनकी कमाई का बड़ा हिस्सा आता है।

गूगल के बाद डिजिटल विज्ञापन का सबसे बड़ा नेटवर्क चलाने वाले फेसबुक ने पिछले हफ्ते चेतावनी दी थी कि आईओएस 14 में नई गोपनीयता सुविधा के चलते कई एप को बड़ा झटका लग सकता है, जो पहले ही कोरोना वायरस के कारण मंदी का सामना कर रहे हैं। एप्पल ने हालांकि कहा है कि वह अपने निगरानी-रोधी टूल को स्थगित कर रहा है, लेकिन इसका यह अर्थ नहीं है कि वह ग्राहकों की गोपनीयता के मौलिक अधिकार को संरक्षित करने से पीछे हट रही है। कंपनी ने कहा कि वह डेवलपर्स को समय देना चाहती है, ताकि वे जरूरी बदलाव कर सकें।