Apple iPod: एप्पल आईपॉड का दौर खत्म, कंपनी ने बंद किया अपने सबसे मशहूर म्यूजिक गैजेट का प्रोडक्शन

iPod- India TV Paisa
Photo:FILE

iPod

Highlights

  • सबसे पहले आइपॉड को 21 साल पहले 23 अक्टूबर 2001 को लॉन्च किया गया था।
  • 2007 में आईफोन के लॉन्च होने के बाद से इसकी पॉपुलेरिटी कम होती चली गई
  • 2014 से ऑईपॉड के मॉडल्स को चरणबद्ध तरीके से बंद करना शुरू कर दिया

दुनिया भर में म्यूजिक के शौकीनों के लिए मायूस करने वाली खबर आई है। मशहूर टेक कंपनी एप्पल ने अपने सबसे लोकप्रिय म्यूजिक गैजेट iPod का उत्पादन बंद करने का फैसला किया है।  

कंपनी ने 2001 में पहली बार आईपॉड का लॉन्च किया था। उस दौर में सीडी और कैसेट पर निर्भर म्यूजिक इंडस्ट्री के लिए एमपी3 का दौर एक बड़ा बदलाव था। हालांकि लॉन्च के कुछ ही वर्षों के बाद स्मार्टफोन की आमद के साथ ही इसकी चमक फीकी पड़ने लगी थी। 

एप्पल ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि अब कंपनी आगे से आईपॉड का प्रोडक्शन नहीं करेगी। कंपनी ने आधिकारिक रूप से उत्पाद बंद करने की घोषणा कर दी है। लेकिन यदि आपको अभी भी इस आइकॉनिक डिवाइस को खरीदने की इच्छा है तो स्टॉक रहने तक एप्पल स्टोर्स पर आईपॉड उपलब्ध रहेंगे। 

21 साल पहले हुई थी शुरुआत

90 के दशक के बाद जब दुनिया नई सहस्त्राब्दि में कदम रख रहा था, उस दौर में म्यूजिक इंडस्ट्री कैसेट्स, सीडी, डीवीडी पर निर्भर थी, और पायरेसी की जोरदार मार झेल रही थी। एप्पल आईपॉड ने म्यूजिक को डिजिटल स्वरूप में बदला। आइपॉड को 21 साल पहले 23 अक्टूबर 2001 को लॉन्च किया गया था। अब न तो किसी सीडी प्लेयर की जरूरत थी न हीं वॉकमैन की। छोटू से गैजेट पहला एमपी3 प्लेयर था जो 1,000 से ज्यादा गाने और 10 घंटे की बैटरी को स्टोर करने में सक्षम था। और चलते फिरते कहीं भी लेकर जा सकते थे। 

आईफोन में जिंदा रहेगा आईपॉड 

एपल के वर्ल्डवाइड मार्केटिंग के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट ग्रेग जोस्वियाक ने कहा, ‘आईपॉड ने म्यूजिक सुनने, डिस्कवर करने और शेयर करने के तरीके को रीडिफाइन किया है।’ उन्होंने कहा कि कंपनी के सभी प्रोडक्ट्स जो एपल म्यूजिक के साथ आते हैं, उनमें आईपॉड जिंदा रहेगा।

Apple iPod

Image Source : FILE

Apple iPod

जानिए क्यों बंद करना पड़ा आईपॉड

एपल के आईपॉड ने 2001 के बाद शुरुआती सालों में जबर्दस्त सफलता हासिल की। आईपॉड के दर्जनों वर्जन रिलीज किए, लेकिन 2007 में आईफोन के लॉन्च होने के बाद से इसकी पॉपुलेरिटी कम होती चली गई। अब आईफोन में इसकी जगह एप्पल म्यूजिक ने ले ली। 

2014 से हो गई थी अंत की शुरुआत

आईफोन के आने के एक दशक के भीतर ही आईपॉड की चमक फीकी पड़ने लगी। कंपनी ने 2014 से ऑईपॉड के मॉडल्स को चरणबद्ध तरीके से बंद करना शुरू कर दिया। 2014 में कंपनी ने आईपॉड क्लासिक बनाना बंद किया था। 2017 में सबसे छोटे म्यूजिक प्लेयर आईपॉड नैनो और आईपॉड शफल को बंद कर दिया।

आईपॉड का सफर 

  • सबसे पहले आइपॉड को 21 साल पहले 23 अक्टूबर 2001 को लॉन्च किया गया था।
  • कंपनी के फाउंडर और CEO स्टीव जॉब्स 6 जनवरी 2004 को सैन फ्रांसिस्को में मैकवर्ल्ड कॉन्फ्रेंस में आईपॉड मिनी को लॉन्च किया था। 
  • 25 सितंबर 2006 को नैनो (सेकेंड जेनरेशन) लॉन्च हुआ था। ये 2,000 गाने स्टोर करने में सक्षम था।
  • 5 सितंबर, 2007 को आईपॉड टच लॉन्च हुआ था।  इसमें एपल मल्टी-टच इंटरफेस लाया था। इसमें 3.5 इंच वाइडस्क्रीन डिस्प्ले था। 
  • नैनो (7th जेनरेशन) को 12 सितंबर 2012 को पेश किया गया था। 
  • 15 जुलाई 2015 को आईपॉड शफल (4th जेनरेशन) पेश किया था। इसमें 2 जीबी स्टोरेज और वॉयसओवर बटन था।
  • एपल ने 15 जुलाई 2015 को आईपॉड शफल (4th जेनरेशन) पेश किया था। 
  • 28 मई 2019 को आईपॉड टच (7th जेनरेशन) में A10 फ्यूजन चिप दी गई थी। 
  • आईपॉड में आखिरी बार 2019 में अपडेट किया गया था।