Maruti Suzuki ने Lockdown को लेकर जताई आशंका, कहा लंबे समय तक जारी रहने पर उत्‍पादन होगा प्रभावित

Maruti Suzuki said Production may be hit if lockdowns continue - India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

Maruti Suzuki said Production may be hit if lockdowns continue 

नई दिल्‍ली। देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (Maruti Suzuki) ने कहा कि देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच विभिन्न राज्यों में लगाए गए लॉकडाउन और कर्फ्यू जारी रहने पर उसके उत्पादन पर असर पड़ सकता है। घरेलू यात्री वाहन वर्ग के बाजार में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने वाली कार कंपनी का कहना है कि लॉकडाउन से उसकी बिक्री नेटवर्क के कामकाज पर असर पड़ेगा, जिससे उसकी विनिर्माण गतिविधियां प्रभावित होने की आशंका है। यह पूछे जाने पर कि कोविड-19 मामलों में वृद्धि के बीच क्या कंपनी की उत्पादन गतिविधियों के प्रभावित होने की आशंका है, एमएसआई के चैयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि लॉकडाउन के जारी रहने पर असर पड़ सकता है क्योंकि तब बिक्री केंद्र बंद पड़े रहेंगे।

यह पूछे जाने पर कि महामारी से जुड़ी बाधाओं के कारण क्या उत्पादन में 50 प्रतिशत तक की कमी हो सकती है, भार्गव ने कहा कि में इस समय नहीं पता कि आगे क्या होगा। यह सब लॉकडाउन जारी रहने पर निर्भर करता है। अभी तो कुछ ही दिन हुए हैं।

कोविड को फैलने से रोकने के लिए चुनिंद रूप से आर्थिक गतिविधियों को कम करने का सुझाव

भारतीय वाणिज्य एंव उद्योग मंडल (एसोचैम) ने केंद्र सरकार को आर्थिक गतिविधियों को चुनिंदा रूप से कम करने की सलाह दी ताकि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप को कम किया जा सके। एसोचैम ने कहा कि जब तक निजी क्षेत्र दवा खरीद का कोई उचित खरीद चैनल स्थापित नहीं करता है तब तक कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति सरकारी चैनलों के माध्यम से कम से कम 90 दिनों तक सुनिश्चित की जानी चाहिए। एसोचैम ने एक बयान में कहा कि  लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए केंद्र सरकार को चुनिंदा रूप से आर्थिक गतिविधियों को कम करना चाहिए।

सरकार को लोगों के जीवन को बचाने के लिए देश के भीतर और बाहर से हर संभव विशेषज्ञता हासिल करनी चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे अपने पत्र में एसोचैम ने सामूहिक टीकाकरण रणनीति तैयार करने और आपूर्ति बढ़ाने के लिए आयात वितरण में ढील देने का भी आह्वान किया। उसने दान और आयातित उपकरण की आपूर्ति के लिए सरकार के भीतर संपर्क का एक एकल बिंदु स्थापित करने का भी सुझाव दिया। इसके अलावा उसने कोरोना संक्रमण के नए वैरिएंट का पता लगाने के लिए बड़े स्तर पर कोविड-19 के सकारात्मक जांच नमूनों की जेनेटिक सीक्वेंसिंग तेज करने की भी सिफारिश की है।

कोरोना के बीच पाकिस्‍तान पर आई अब ये बड़ी आफत…

Covishield बनाने वाली सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया ने की बड़ी घोषणा…

बिना राष्‍ट्रीय lockdown के अप्रैल में हुआ इतना बड़ा नुकसान, फ‍िर भी हो रही सख्‍त कदम उठाने की मांग

खुशखबरी: इस तारीख को किसानों के खाते में आने वाली है नकद रकम, ऐसे तुरंत चेक करें लिस्ट

एक्सिस बैंक ने दिया मोटी कमाई का मौका, जल्दी करें स्कीम के सिर्फ कुछ दिन हैं बाकी